सोमवार, दिसम्बर ११, २०१७
लेफ्टिनेंट कर्नल राजन अग्रवाल ...
लेफ्टिनेंट कर्नल राजन अग्रवाल ने साइबर अपीलीय अधिकरण नई दि...
.................................................
डॉ एस एस चाहर ने साइबर अपीलीय ...
डॉ एस एस चाहर ने साइबर अपीलीय अधिकरण नई दिल्ली में सदस्य (...
आप यहां है: मुख्य पृष्ठ > हमारे बारे में

हमारे बारे में

साइबर अपील न्यायाधिकरण  सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम २००० के तहत स्थापित किया गया है| देश का पहला और एकमात्र साइबर अपीलीय न्यायाधिकरण सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, २००० धारा ४८ (१) के प्रावधानों के अनुसार केन्द्र सरकार द्वारा स्थापित किया गया है|

आईटी अधिनियम के तहत अपने कार्यों के निर्वहन के प्रयोजन के लिए, साइबर अपीलीय न्यायाधिकरण के पास वही शक्तियां है जो दिवानी अदालत के तहत सिविल प्रक्रिया संहिता, १९०८ में निहित है| हालांकि, सिविल प्रक्रिया, १९०८ के कोड द्वारा निर्धारित प्रक्रिया लागू होती है किन्तु साथ ही न्यायाधिकरण प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों के द्वारा निर्देशित है |

अपनी प्रक्रिया को नियंत्रित करने के लिए साइबर अपीली न्यायाधिकरण के पास शक्तियां है जिस में वह जगह भी शामिल है। जहां वे अपनी बैठकें करते हैं| साइबर अपीली न्यायाधिकरण के समक्ष धारा १९३ और २२८ के तहत भारतीय दंड संहिता की धारा १९६ के निमित होने वाली हर कार्यवाही एक न्यायिक प्रक्रिया है और साइबर अपील न्यायाधिकरण, अपराध प्रक्रिया १९७३ की धारा १९५ और अध्याय २६ के निमित एक दिवानी अदालत है |

कौन क्या है ?







© साइबर अपील न्यायाधिकरण, भारत सरकार द्वारा सामग्री का स्वामित्व, अद्यतन और बनाए रखना|
मई २३, २०१७ को ३:३१ शाम अंतिम बार अद्यतित